Make your own free website on Tripod.com

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(Shamku - Shtheevana)

Radha Gupta, Suman Agarwal & Vipin Kumar

 

Home

 

Shamku -  Shankushiraa  ( words like Shakata/chariot, Shakuna/omens, Shakuni, Shakuntalaa, Shakti/power, Shakra, Shankara, Shanku, Shankukarna etc. )

Shankha - Shataakshi (Shankha, Shankhachooda, Shachi, Shanda, Shatadhanvaa, Shatarudriya etc.)

Shataananda - Shami (Shataananda, Shataaneeka, Shatru / enemy, Shatrughna, Shani / Saturn, Shantanu, Shabara, Shabari, Shama, Shami etc.)

Shameeka - Shareera ( Shameeka, Shambara, Shambhu, Shayana / sleeping, Shara, Sharada / winter, Sharabha, Shareera / body etc.)

Sharkaraa - Shaaka   (Sharkaraa / sugar, Sharmishthaa, Sharyaati, Shalya, Shava, Shasha, Shaaka etc.)

Shaakataayana - Shaalagraama (Shaakambhari, Shaakalya, Shaandili, Shaandilya, Shaanti / peace, Shaaradaa, Shaardoola, Shaalagraama etc.)

Shaalaa - Shilaa  (Shaalaa, Shaaligraama, Shaalmali, Shaalva, Shikhandi, Shipraa, Shibi, Shilaa / rock etc)

Shilaada - Shiva  ( Shilpa, Shiva etc. )

Shivagana - Shuka (  Shivaraatri, Shivasharmaa, Shivaa, Shishupaala, Shishumaara, Shishya/desciple, Sheela, Shuka / parrot etc.)

Shukee - Shunahsakha  (  Shukra/venus, Shukla, Shuchi, Shuddhi, Shunah / dog, Shunahshepa etc.)

Shubha - Shrigaala ( Shubha / holy, Shumbha, Shuukara, Shoodra / Shuudra, Shuunya / Shoonya, Shoora, Shoorasena, Shuurpa, Shuurpanakhaa, Shuula, Shrigaala / jackal etc. )

Shrinkhali - Shmashaana ( Shringa / horn, Shringaar, Shringi, Shesha, Shaibyaa, Shaila / mountain, Shona, Shobhaa / beauty, Shaucha, Shmashaana etc. )

Shmashru - Shraanta  (Shyaamalaa, Shyena / hawk, Shraddhaa, Shravana, Shraaddha etc. )

Shraavana - Shrutaayudha  (Shraavana, Shree, Shreedaamaa, Shreedhara, Shreenivaasa, Shreemati, Shrutadeva etc.)

Shrutaartha - Shadaja (Shruti, Shwaana / dog, Shweta / white, Shwetadweepa etc.)

Shadaanana - Shtheevana (Shadaanana, Shadgarbha, Shashthi, Shodasha, Shodashi etc.)

 

 

Puraanic contexts of words like Shaalaa, Shaaligraama, Shaalmali, Shaalva, Shikhandi, Shipraa, Shibi, Shilaa / rock etc. are given here.

Esoteric aspect of Shikhandee

Comments on Shalmali

शाला नारद १.५६.५८१, ब्रह्माण्ड १.२.७.११९(शाला का वृक्ष की शाखाओं से साम्य), ३.४.३१.६६(कांस्य, ताम्र, आरकूट, लौह, रौप्य, हेम शालाएं), ३.४.३३(गोमेद शाला), ३.४.३३(सुवर्ण, पुष्पराग, पद्मराग, गोमेदक, वज्र आदि शालाएं), ३.४.३४(मरकत, मुक्ता, विद्रुम शालाएं),३.४.३५(अहंकार शाला), ३.४.३५(चन्द्र बिम्ब शाला), ३.४.३५(बुद्धि शाला), ३.४.३५(मन, बुद्धि, अहंकार, सूर्यबिम्ब, चन्द्रबिम्ब शालाएं), मार्कण्डेय ४९.५३(कल्पवृक्ष की शाखाओं के अनुसार शालाओं की कल्पना), वायु ८.१२६(वृक्ष की शाखाओं का रूप), स्कन्द १.२.५३(नारद द्वारा स्थापित त्रिपुरुष शाला का माहात्म्य ), लक्ष्मीनारायण १.२०९.४७, १.४४१.९२, २.११०.२शालावती, २.२१०.५९, २.२९०, ३.१८७.६९(धर्मशालायन , द्र. हेमशाला shaalaa/ shala

 

शालि स्कन्द ५.३.२६.१४६

 

शालिग्राम अग्नि ४६(शालिग्राम शिला के लक्षण ; लक्षणों के अनुसार देव संज्ञा), ४७(शालिग्राम विग्रह की पूजा का वर्णन), गरुड १.४५(शालिग्राम शिला के लक्षणों का वर्णन), १.६६(शालिग्राम शिला के लक्षण), देवीभागवत ९.२४(शालिग्राम शिला में चिह्न अनुसार देवताओं के लक्षण), पद्म २.५, ३.३१.११८(शालिग्राम शिला का माहात्म्य), ५.२०(शालिग्राम शिला की गण्डकी में उपस्थिति, पिशाच का उद्धार), ५.७८(शालिग्राम शिला के लक्षण, रूप), ६.२३, ६.८२, ६.१२०(शालिग्राम शिला का माहात्म्य, शिला में देवों के लक्षण), ६.१३१(शालिग्राम शिला का माहात्म्य), ब्रह्मवैवर्त्त २.२१, २.२७.९ (शालिग्राम दान का फल), भविष्य १.१५६, ३.४.६, मत्स्य १३, वराह १४४, १४५(शालिग्राम क्षेत्र का माहात्म्य, शालिग्राम के अन्तर्गत तीर्थ), विष्णु २.१.३४, विष्णुधर्मोत्तर ३.१२१.३(शालिग्राम क्षेत्र में त्रिविक्रम की पूजा का निर्देश), शिव २.५.४१, स्कन्द २.४.२.५२टीका, २.४.८टीका(शालिग्राम शिला दान का माहात्म्य, धर्माचार वैश्य की कथा), ५.३.१८८(शालिग्राम तीर्थ का माहात्म्य), ५.३.१९८.७१(शालग्राम , ६.२४३+ (शालिग्राम शिला का पूजन, गालव द्वारा पैजवन शूद्र को परामर्श, शालिग्राम के भेदों का वर्णन ), ६.२५१, लक्ष्मीनारायण १.३३७, २.२७१.७२, ३.२२, shaaligraama/ shaligrama

 

शालिवाहन भविष्य ३.३.२

 

शालिहोत्र अग्नि २९२.४४(शालिहोत्र द्वारा सुश्रुत को अश्व आयुर्वेद का उपदेश), पद्म ३.२६.१०२(शालिहोत्र तीर्थ का माहात्म्य ), भविष्य ३.४.१, शिव ३.५, shaalihotra/ shalihotra

 

शालीन भागवत ३.१२.४२(ब्रह्मा से उत्पन्न गृहस्थ वृत्तियों में से एक, द्र. टीका)shaaleena/ shalina

 

शालूकिनी वामन ६४.३

 

शाल्मलि अग्नि ११९.७(शाल्मलि द्वीप का वर्णन), कूर्म १.४९.१३(शाल्मलि द्वीप का वर्णन), गरुड १.५६(शाल्मलि द्वीप पर वपुष्मान् व उसके ७ पुत्रों का आधिपत्य), २.२२.६०(शाल्मलि द्वीप की त्वचा में स्थिति), देवीभागवत ८.४(शाल्मलि द्वीप का यज्ञबाहु राजा), ८.१२(शाल्मलि द्वीप का वर्णन, शाल्मलि द्वीप की महिमा), ८.२२.३७(नरक का नाम), नारद १.६६.१०७(सूक्ष्मेश की शक्ति शाल्मलि का उल्लेख), ब्रह्मवैवर्त्त २.३१.११(महावेश्या गामी के शाल्मलि तरु बनने का उल्लेख), ब्रह्माण्ड १.२.१४.३१(शाल्मलि द्वीप के जनपदों व वर्षों के नाम), १.२.१९.३२(शाल्मलि द्वीप का वर्णन), भविष्य ३.४.२४.७८(द्वापर के द्वितीय चरण में शाल्मलि द्वीप में नरों की स्थिति), मत्स्य १२२.९१(शाल्मलि द्वीप का वर्णन), लिङ्ग १.५३.५(शाल्मलि द्वीप के पर्वत), वराह ८९, वामन ९०.४३(शाल्मलि द्वीप में विष्णु का वृषभध्वज नाम), वायु ४९.३०(शाल्मलि द्वीप के अन्तर्गत पर्वतों व नदियों के नाम), विष्णु २.४.२२(शाल्मलि द्वीप का वर्णन), स्कन्द ५.३.८५.७२(षट्कर्मनिरत द्विज के शाल्मली नाव तुल्य होने का उल्लेख), ५.३.१५५.७५(नरक में अग्निपुञ्ज आकार वाले शाल्मली का उल्लेख), ५.३.१५५.१०३(परदाररतों के जलती हुई, आयसी, कण्टकों से घिरी शाल्मली में अवगूहन का उल्लेख), योगवासिष्ठ ६.१.१२०.२३(शाल्मलि की देह से उपमा),६.२.१६.८(दुःख रूपी शाल्मलि), महाभारत शान्ति १५४(नारद से वार्तालाप में शाल्मलि की गर्वोक्ति, वायु के प्रकोप से बचने के लिए स्वयं ही अपनी शाखाएं आदि गिराना आदि), १५५, लक्ष्मीनारायण २.२१६.५१(शाल्मलि वृक्ष द्वारा वायु की पराभव का वृत्तान्त ), कथासरित् १२.४.५९(मन्त्री भीमपराक्रम द्वारा शाल्मलि वृक्ष के मूल से उत्थित गणेश प्रतिमा के निकट स्थित होने का कथन), द्र. द्वीप shaalmali/ shalmali

Comments on Shalmali

 

शाल्व गर्ग ६.६.३०(कृष्ण व रुक्मिणी विवाह में शाल्व का बलराम - अनुज गद से युद्ध), ७.१३(राजपुर का राजा, प्रद्युम्न से पराजय), १०.२४(शाल्व - भ्राता अनुशाल्व द्वारा अनिरुद्ध सेना से युद्ध व पराजय), देवीभागवत १.२०.४५(काशिराज - कन्या अम्बा की शाल्व पर आसक्ति, भीष्म के कारण त्याग), नारद १.५६.७४२(शाल्व देश के कूर्म के पादमण्डल होने का उल्लेख), भागवत १०.७६+ (शाल्व द्वारा तप, सौभ विमान की प्राप्ति, द्वारका पर आक्रमण, माया से वसुदेव का निर्माण, कृष्ण द्वारा चक्र से शाल्व का वध), वामन ६९.५४(अन्धक - सेनानी, सूर्य से युद्ध), ९१, शिव ३.४शाल्वल, ३.३१, स्कन्द ३.३.६, हरिवंश २.४९(रुक्मिणी स्वयंवर प्रसंग में शाल्व द्वारा कृष्ण के प्रभाव का कथन), २.५२+ (शाल्व का कालयवन के पास जरासन्ध का दूत बनकर जाना), ३.१०४.१, महाभारत कर्ण ४५.३५(शाल्व निवासियों की कृत्स्नानुशासन विशेषता का उल्लेख ) shaalva/ shalva

 

शाव देवीभागवत ७.८शावन्त, मत्स्य १४५.९५(शाव द्वारा सत्य के प्रभाव से ऋषिता प्राप्ति का उल्लेख ), लक्ष्मीनारायण २.२९+शावदीन shaava/ shava

 

शासन द्र. दु:शासन, पाकशासन

 

शास्ता द्र. महाशास्ता

 

शास्त्र पद्म ६.२३६, विष्णुधर्मोत्तर ३.७३(शास्त्र के अधिदेवता, शास्त्र की मूर्ति का रूप), स्कन्द ५.३.३८.६३, योगवासिष्ठ ३.८, ६.२.१९७(शास्त्रों की निरर्थकता या सार्थकता का प्रश्न : काष्ठदारकों द्वारा चिन्तामणि प्राप्ति का दृष्टान्त ), कथासरित् १०.३.२१शास्त्रगञ्ज, shaastra/ shastra

 

शास्त्री ब्रह्माण्ड ३.४.७.७२(महाशास्त्री : मधु अर्पण करने योग्य मातृकाओं में से एक ) shaastree/ shastri

 

शाहविलापन? लक्ष्मीनारायण ४.६५

 

शिंशपा पद्म १.२८(शिंशपा वृक्ष अप्सराओं को प्रिय होने का उल्लेख), ६.२२२.२(शिंशपा तरु की काशी के प्रभाव से मुक्ति, पूर्व जन्म में श्रवण - पत्नी कुण्डा), लक्ष्मीनारायण १.५४३.७८(दक्ष द्वारा  विश्वेदेवों  को प्रदत्त ८ कन्याओं में से एक), ३.२३.६४(सूर्यवर्चा नृप हेतु कृष्ण द्वारा शिंशपा वृक्ष के स्तम्ब में स्वयं को प्रकट करने का वृत्तान्त ), कथासरित् १२.३.५८, १२.८.४७, १२.२८.१, shinshapaa/ shimshapaa

 

शिंशुमार द्र. शिशुमार

 

शिक्षा अग्नि ३३६(वर्णमाला के अक्षरों का निरूपण ) shikshaa

 

शिखण्डी कूर्म १.१४.२२(पृथु व अन्तर्धाना - पुत्र?, सुशील - पिता), देवीभागवत ४.२२.३८(राक्षस का अंश), भविष्य २.१.१७.९(अस्थिदाह में अग्नि का शिखण्डी नाम), ३.३.९.२१(शिखण्डी का रूपण रूप में अवतार), लिङ्ग १.२४.८७(२८वें द्वापर में मुनि), वायु २३.१८१(१८वें द्वापर में शिव अवतार), शिव ३.१.३५(ईशान शिव द्वारा सृष्ट ४ बालकों (जटी, मुण्डी, शिखण्डी, अर्द्धमुण्ड) में से एक), ३.५, स्कन्द ५.३.८३.४९(शिखण्डी नृप की कन्या द्वारा अपने पूर्व जन्म के पति की अस्थियों को हनूमन्तेश्वर तीर्थ में क्षेपण की कथा), ७.१.२४.१६० (शिखण्डी गन्धर्व गण द्वारा रूप गर्व युक्त गन्धर्व कन्या को कुष्ठ प्राप्ति का शाप), ७.१.५४.३(वही), ७.१.९१(शिखण्डीश :  त्र्यम्बक लिङ्ग का त्रेतायुग में नाम ), महाभारत शान्ति ३३५.२७(मरीचि, अत्रि आदि ७ चित्र शिखण्डी ऋषियों द्वारा शास्त्र रूप प्रमाण रचना का कथन), shikhandee/ shikhandi

Esoteric aspect of Shikhandee

 

शिखण्डिनी अग्नि १८.१९(अन्तर्धान - पत्नी, हविर्धान - माता), भागवत ४.२४(अन्तर्धान - पत्नी, पावन आदि अग्नियों की पिता ), मत्स्य ४, द्र. वंश पृथु shikhandinee/ shikhandini

 

शिखर स्कन्द १.१.७.३३(श्रीशैल में शिखरेश्वर लिङ्ग की स्थिति का उल्लेख ), कथासरित् ११.१.७५ shikhara

 

शिखा पद्म ६.१०९.३०(चोल नृप के गुरु मुद्गल द्वारा असफलता पर अपनी शिखा के उत्पाटन का कथन), भविष्य २.१.१७.१३(शिखा में विभु नामक अग्नि का वास ), लक्ष्मीनारायण ३.२०६.११(तिलकरंग वनपाल तथा पत्नी शिखादेवी द्वारा आगन्तुक भक्त की सेवा से मोक्ष प्राप्ति का वृत्तान्त), द्र. अग्निशिखा, त्रिशिख, पञ्चशिख, रूपशिख, विद्युत्शिख, हरिशिख shikhaa

 

शिखि नारद १.६६.११६(शिखीश की शक्ति कुजनी का उल्लेख), स्कन्द ४.२.७०.७०(शिखी देवी का संक्षिप्त माहात्म्य), पद्म १.४६.८१शिखिपट्टिका, द्र. भूगोल, वंश ध्रुव,

 

शिखिध्वज योगवासिष्ठ ६.१.७७, ६.१.९३+, ६.१८४, ६.१.९३, ६.१.११०,

 

शितिपाद ५.२.३४.१८,

 

शिपिविष्ट महाभारत शान्ति ३४२.७१( शिपिविष्ट शब्द की निरुक्ति)

 

शिनि स्कन्द ५.२.७७(शिनि द्वारा पुत्रार्थ तप, वीरक शिवगण की पुत्र रूप में प्राप्ति),

 

शिप्रा स्कन्द ५.१.३.१६, ५.१.२०(शिप्रा में स्नान के पश्चात् ढुण्ढेश्वर के दर्शन का माहात्म्य), ५.१.२८.५७, ५.१.४९.१९(विष्णु की अङ्गुलि पर त्रिशूल प्रहार से उत्पन्न रस से शिप्रा की उत्पत्ति, शिप्रा का माहात्म्य), ५.१.५०.४३, ५.१.५१(अमृत की पुन: प्राप्ति के लिए नागों द्वारा शिप्रा में स्नान, अमृतोद्भवा नाम), ५.१.५२.५३(यज्ञ वराह के ह्रदय से शिप्रा के जन्म का कथन), ५.१.५२.६६(शिप्रा के साथ क्षिप्र शब्द का उल्लेख), ५.२.१४(शिप्रा में कालकूट विष को वहन करने की सामर्थ्य), ५.२.७१.६९(शिप्रा का प्राची/सरस्वती से तादात्म्य ), कथासरित् ५.१.१४२, shipraa

 

शिबि गरुड १.८७.१६(तामस मन्वन्तर में इन्द्र), पद्म १.६.४२(प्रह्लाद - पुत्र), १.३४(ब्रह्मा के यज्ञ में प्रतिस्थाता), ६.१९९, ६.२२२, ब्रह्म १.११, भागवत ४.१३.१५, मत्स्य ६, ४२(शिबि द्वारा ययाति को स्व पुण्यों के दान का प्रस्ताव, शिबि आदि में स्वर्ग गमन की प्रतिस्पर्द्धा), वायु ९९.२१(उशीनर शिबि : उशीनर व दृषद्वती - पुत्र, शिबि के पुत्रों के नाम), विष्णुधर्मोत्तर १.१७९(चतुर्थ मन्वन्तर में इन्द्र), स्कन्द ६.९०(उशीनर शिबि द्वारा वसुधारा से अग्नि की तृप्ति), महाभारत कर्ण ४५.३५(शिबि निवासियों की विषम विशेषता का उल्लेख), लक्ष्मीनारायण २.१२४, २.१२६.१९(थर्कूट राज्य के राजा शिबि द्वारा यज्ञ करने आदि का वर्णन ), २.१८८.१९, ३.७४.५४, कथासरित् १.७.८८, १६.३.१७, द्र. मन्वन्तर, वंश ध्रुव, वंश संह्राद, shibi

 

शिबिका नारद १.४८, २.२२.७९, पद्म ६.२०४(रुग्ण शरभ वैश्य का शिबिका पर आरूढ होना, विकट राक्षस द्वारा शिबिका वाहकों का भक्षण), ब्रह्मवैवर्त्त २.२७.१७(शिबिका दान से विष्णु लोक की प्राप्ति), मार्कण्डेय ७८.१८/७५.१८(सूर्य के कर्तित तेज से कुबेर की शिबिका आदि के निर्माण का उल्लेख), विष्णु २.१३.६५, वा.रामायण ४.२५(वाली के अन्तिम संस्कार हेतु निर्मित शिबिका ) shibikaa

 

शिम्बी पद्म ४.२१.२७(शिम्बी के पापकर होने का उल्लेख )

 

शिर गरुड २.२२.५९(शिर में क्रौञ्च द्वीप की स्थिति), नारद १.६६.१११(शिरोत्तम की शक्ति युक्ति का उल्लेख ), स्कन्द ५.३.८३.१०५, shira

 

शिरा ब्रह्माण्ड २.३.६.७(महाशिरा : दनु व कश्यप के प्रधान पुत्रों में से एक), वायु ६८.७/२.७.७(वही), द्र. त्रिशिरा, पञ्चशिरा, मृगशिरा, वेदशिरा, शङ्कुशिरा, स्थूलशिरा, हयशिरा shiraa

 

शिरीष भविष्य १.१९३.११(शिरीष की दन्तकाष्ठ की महिमा), विष्णुधर्मोत्तर १.१३५.४३, स्कन्द ७.१.१७(शिरीष की दन्तकाष्ठ का महत्त्व ), लक्ष्मीनारायण १.४४१.९६, shireesha/ shirisha

 

शिल पद्म ६.८१(शिलोच्छ वृत्तिधारी पुरुष द्वारा सिद्ध से गङ्गा माहात्म्य का श्रवण ), भागवत ११.१७.४१, महाभारत अनुशासन २६.१९शिलोच्छवृत्ति, योगवासिष्ठ ६.२.१६६ shila

 

शिला अग्नि ४१(शिला न्यास विधि), ४३.१२(प्रतिमा हेतु शिला के लक्षणों का कथन),  ९२(शिलाओं के प्रकार, पूजा विधि, शिला में महाभूतों का न्यास), ९४(पांच प्रकार की शिलाओं की अर्चना) ११४.१० (मरीचि - पत्नी धर्मव्रता के शिला बनने की कथा), गरुड १.८६(गया माहात्म्य प्रसंग में प्रेत शिला की महिमा), ३.२६.९३(सीताराम शिला का माहात्म्य), ३.२६.१०८(पट्टाभिराम शिला का माहात्म्य), देवीभागवत ९.२४, ब्रह्म १.७९, ब्रह्माण्ड २.३.१३.४३(जातवेद शिला), नारद २.६७.१०(बदरी तीर्थ में स्थित नारद, गरुड आदि पांच शिलाओं का माहात्म्य), भविष्य ३.३.२१.२०(मकरन्द द्वारा धर्म से शिला अश्व की प्राप्ति), ३.४.६(शालिग्राम शिला), मत्स्य १३, १५७, वराह ८१६, १८२(शाल प्रतिमा प्रतिष्ठापन विधि), वायु १०६.२७, १०६.४६(गयासुर के शीर्ष पर धारित शिला का चलायमान होना, गदाधर की गदा से स्थिर होना), १०७+ (मरीचि - पत्नी धर्मव्रता का पति के शाप से शिला बनना, शिला की गयासुर के शीर्ष पर स्थिति, शिला की महिमा), १०८(शिला के हस्त, पादादि पर विभिन्न पर्वतों की स्थिति), विष्णुधर्मोत्तर ३.९०(शिला परीक्षा), ३.९४(शिला न्यास), शिव १.१८.४९(शिला लिङ्ग के शूद्रों द्वारा पूजित होने तथा शुद्धिकर होने का उल्लेख),  स्कन्द २.३.३+ (बदरी क्षेत्र में नारदीय शिला, मार्कण्डेय शिला, वाराही शिला, गारुडी शिला, नारसिंही शिला), २.४.२, ३.१.३९(विश्वामित्र के शाप से शिला बनी रम्भा की मुक्ति की कथा), ४.२.५९.९६(धूतपापा कन्या का धर्म के शाप से चन्द्रकान्त शिला बनना), ५.३.१०४(सुवर्ण शिला तीर्थ का माहात्म्य), ५.३.१४६.६३, ६.४०(ब्रह्मा द्वारा पृथिवी पर त्रिकाल सन्ध्या के लिए चित्र शिला की स्थापना), ६.१११(दमयन्ती का ब्राह्मणों के शाप से शिला बनना), ६.१३४(हारीत - पत्नी पूर्णकला का शाप से खण्ड शिला बनना, खण्ड शिला की अर्चना से काम की कुष्ठ से मुक्ति ), योगवासिष्ठ ६.१.४६शिलाक, ६.२.६६, ६.२.७०, ६.२.९४.६८(, ६.२.१६६, लक्ष्मीनारायण १.२०६, १.३४०, १.४१०, १.४९८, १.५०२, १.५०३२.१५८.७३, २.१८३, ३.२१५, ३.२१८शिलाङ्गारखानि, ४.१०१.१३१, द्र. तक्षशिला, दामशिलाद, मत्स्यशिला, सुवर्णशिला shilaa